ब्रिक्स सम्मेलन 2017: बोले पीएम मोदी- शांति और विकास के लिए सहयोग जरूरी

2017-09-04 11:30:55


श्यामन : पांच देशों के नेताओं की सामूहिक तस्वीरें लिये जाने के साथ ही यहां ब्रिक्स शिखर सम्मेलन शुरू हो गया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने पूरी गर्मजोशी के साथ हाथ मिलाया. जिनपिंग ने सम्मेलन शुरू होने से पहले ब्राजील, रुस और दक्षिण अफ्रीका के नेताओं की अगवानी की. मुलाकात के दौरान पीएम मोदी और शी जिनपिंग के बीच खासी गर्मजोशी देखने को मिली. पीएम मोदी जब  जिनपिंग के पास पहुंचे तो दोनों नेताओं ने काफी देर तक हाथ मिलाया. इस दौरान दोनों के चेहरे पर मुस्कान देखने को मिली.ब्रिक्स सम्मेलन 2017 को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकवाद को मुख्य मुद्दा बताया. उन्होंने कहा कि शांति और विकास के लिए सहयोग जरूरी है. हमारा मिशन गरीबी को हटाना, स्वास्थय, सफाई, कौशल, खाद्य सुरक्षा, लैंगिक समानता, शिक्षा सुनिश्चित करना है. पीएम मोदी ने कहा कि ब्रिक्स देश ढ्ढस््र के साथ मिलकर सोलर एनर्जी पर काम कर सकते हैं.पीएम मोदी ने कहा कि एक ताकतवर ब्रिक्स पार्टनरशिप और इनोवेशन विकास का जरिया बन सकते हैं. एनडीबी ने ब्रिक्स देशों में विकास के लिए लोन देने की शुरुआत की है.अपने संबोधन में शी जिनपिंग ने कहा कि जब विश्व में इतने बदलाव हो रहे हैं तो ब्रिक्स का सहयोग इस वक्त और महत्वपूर्ण बन गया है. हमारे राष्ट्रीय मतभेदों के बावजूद ब्रिक्स के सभी 5 देश विकास के एक ही स्तर पर हैं. उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय शांति और विकास से जुड़ी समस्याओं के समाधान के लिए हमें एक साथ एक आवाज में बोलना होगा. बिजनस ऑपरेशन और बैंक के विकास के लिए चीन एनडीबी प्रॉजेक्ट में 4 मिलियन डॉलर का योगदान देगा.शी जिनपिंग ने कहा कि विश्व के साथ हमारे नजदीकी रिश्ते की यह जरूरत है कि हम ग्लोबल गवर्नेंस में बढ़चढ़ कर भाग लें. हमारी सहभागिता के बिना बहुत सी वैश्विक चुनौतियों का हल सफलतापूर्वक नहीं संभव है.

Top 9 Highlights

राजनीति

Subscribe us

खानाखजाना

शिक्षा